नवाबगंज के वीआईपी मोहल्ले में कोरोना की दस्तक से दहशत

0

गोण्डा। नवाबगंज नगर पालिका क्षेत्र में भी कोरोना कहर ढा रहा है। इस महामारी की चपेट में आकर यहां की पूर्व चेयरमैन की मौत हो गई, जबकि तमाम लोग अस्पताल में भर्ती हैं। खास बात यह है कि नगर के वीआईपी मोहल्ले में कोविड-19 ने दस्तक दे दी है। नगर क्षेत्र में अब तक 20 कोरोना एक्टिव केस पाए जा चुके हैं। इससे कैबिनेट मंत्री, पूर्व मंत्री, सांसद समेत कई वीआईपी में भी दहशत का माहौल है।

गुरूवार को नवाबगंज ब्लाक व नगर क्षेत्र में कोरोना बम फूटा। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर साठ लोगों की एंटीजन जांच हुई। बारह बीटीएम रिपोर्ट लखनऊ जांच भेजी गयी, जिसकी रिपोर्ट बाद में आयेगी। तीन की रिपोर्ट पॉजिटिव आयी है, जिसमें कस्बे के दो कस्बे व एक लौव्वावीरपुर का बालक संक्रमित पाया गया है। नवाबगंज नगर के पड़ाव मुहल्ले में एक पुरूष, सामुदायिक केन्द्र का एक कर्मचारी व लौव्वावीरपुर का एक बालक पॉजिटिव पाया गया है। डॉ.अनूप तिवारी ने बताया कि ब्लाक क्षेत्र में कुल 3 मरीज कोरोना पॉजिटिव पाये गये हैं, जिसमें कस्बे के 2 पुरुष व लौव्वावीरपुर गांव का एक बालक है। कस्बे के घंटाघर को सील करने की कार्यवाही एसडीएम राजेश कुमार द्वारा की जा रही है।

वहीं नवाबगंज का पड़ाव मुहल्ला कोरोना पॉजिटिव का गढ़ बनता जा रहा है। इस मुहल्ले में 5 पॉजिटिव मरीज पाये जा चुके हैं। नगर का यह वीआईपी मोहल्ला है। यहां सूबे के समाज कल्याण मंत्री रमापति शास्त्री, कैसरगंज सांसद बृजभूषण शरण सिंह का आवास व हॉस्पिटल है। इसके साथ ही सपा के पूर्व कृषि मंत्री विनोद कुमार उर्फ पंडित सिंह का घर, नगर पालिका अध्यक्ष डॉक्टर सत्येन्दर सिंह व पूर्व पालिका अध्यक्ष अंजू सिंह का आवास है। नगर में एक दर्जन बैंक व सब्जी मंडी स्थल भी है।

मोहल्ला निवासी पूर्व चेयरमैन अंजू सिंह की कोरोना से मौत के बाद वीआईपी लोगों में दहशत का माहौल है। सभी परिवार सहित घरों में कैद हो गए हैं। इसके साथ ही आम नागरिक भी दहशतजदा हैं। कोरोना ऐक्टिव केसों के साथ ही लोगों के माथे पर चिंता की लकीरें बढ़ती जा रही हैं।

कोरोना से पूर्व चेयरमैन की मौत, शोक में डूबा शहर

नवाबगंज नगर पालिका परिषद की पूर्व अध्यक्ष अंजू सिंह (55 वर्ष) की कोरोना के इलाज के दौरान बुधवार की देर शाम लखनऊ में मौत हो गई। इससे नगर में शोक की लहर है। नगर के पड़ाव मुहल्ले की निवासी अंजू सिंह कोरोना संक्रमित पायी गयीं थीं, जिसके बाद उन्हें लखनऊ के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

बताते चलें कि अंजू सिंह तीन बार नगर पालिका परिषद की अध्यक्ष रह चुकी थीं। इनके एक बेटी है, जिसकी शादी हो चुकी है। उनके निधन पर समाज कल्याण मंत्री रमापति शास्त्री के प्रतिनिधि वेदप्रकाश दुबे, पालिकाध्यक्ष डॉ. सत्येंद्र सिंह, लोकतंत्र सेनानी जनार्दन प्रसाद तिवारी, सूर्य लाल दुबे, अशोक कुमार उर्फ गिंडू सिंह, सूर्यलाल गुप्ता, राजेश गुप्ता, रंजीत सिंह, कैसरगंज सांसद प्रतिनिधि सोनू सिंह, मैनपुर प्रधान प्रतिनिधि दुर्गा सिंह, देवी प्रसाद दुबे, सूर्यलाल दुबे, आनंद दुबे सहित नगर व ग्रामीण क्षेत्रों के तमाम लोगों ने गहरा दुख जताते हुए शोक व्यक्त किया है।