UP: रेरा ने भू-सम्पदा परियोजनाओं में तीन बैंक खाते अनिवार्य, अब यह होंगी सेवा शर्तें

सेपरेट बैंक खाते की राशि से एश्योर्ड रिटर्न, ब्याज और अर्थदण्ड का भुगतान नहीं कर सकेंगे प्रोमोटर

Sandesh Wahak Digital Desk : रेरा ने पूर्व में जारी रियल इस्टेट प्रोजेक्ट्स बैंक एकाउंट्स दिशा निर्देशों में संशोधन करते हुए संशोधित दिशा निर्देश जारी किए है। इन संशोधित निर्देशों के माध्यम से उपभोक्ताओं के हितों का प्रभावी संरक्षण हो सकेगा तथा परियोजनाएं समय से पूरी हो सकेंगी। उप्र रेरा ने परियोजना के सेपरेट एकाउंट पर किसी भी तरह लिन प्रतिबंधित कर किया दिया है और इस एकाउंट से एश्योर्ड रिटर्न, ब्याज और अर्थदण्ड का भुगतान करने पर भी रोक लगा दी है।

परियोजना के सेपरेट एकाउंट पर किसी भी तरह लिन प्रतिबन्धित

अब हर परियोजना में आवंटियों से भुगतान प्राप्त करने के लिए एक ’कलेक्शन एकाउण्ट’ होगा। प्रोमोटर द्वारा परियोजना के विज्ञापनों, आवंटन पत्रों, आवंटियों के साथ अनुबंधों तथा आवंटियों के साथ पत्राचार में इस एकाउंट को अनिवार्य रूप से अंकित किया जाएगा।

- Advertisement -

प्रोमोटर द्वारा सम्बन्धित बैंक को इस आशय के स्टैंडिंग निर्देश दिए जाएंगे कि ‘कलेक्शन एकाउण्ट’ में आवंटियों द्वारा समय-समय पर जमा की गई धनराशि का कम से कम 70 प्रतिशत धनराशि ऑटो स्वीप द्वारा परियोजना के ‘सेपरेट एकाउंट’ और अधिकतम 30 प्रतिशत धनराशि परियोजना के ‘ट्रान्जैक्शन एकाउण्ट’ में अंतरित कर दी जाएगी। आवंटियों तथा प्रोमोटर्स की जानकारी के लिए इन डायरेक्शन्स के कुछ महत्वपूर्ण भाग दिए जा रहे हैं।

अब यह होंगी सेवा शर्तें

  1. प्रोमोटर द्वारा परियोजना के पंजीकरण आवेदन के साथ परियोजना के कलेक्शन एकाउंट, सेपरेट एकाउंट तथा ट्रान्जैक्शन एकाउंट के विवरण रेरा में प्रस्तुत किए जाएंगे।
  2. इन एकाउंट्स के एकाउंट होल्डर्स के रूप में प्रोमोटर तथा परियोजना दोनों के नाम होंगे। इनका संचालन कम्पनी के बोर्ड रिजल्यूशन द्वारा प्राधिकृत डायरेक्टर या पार्टनर ही कर सकेगा।
  3. परियोजना के निर्माण के लिए बैंक तथा वित्तीय संस्थाओं से लिए गए सेक्योर्ड तथा अन्सेक्योर्ड कर्ज की सम्पूर्ण धनराशि ’सेपरेट एकाउण्ट’ में जमा करना अनिवार्य है।
  4. सेपरेट एकाउंट की धनराशि परियोजना की भूमि, परियोजना के निर्माण तथा विकास कार्यों के लिए ही व्यय की जा सकेगी। प्रोमोटर इस खाते से परियोजना के निर्माण हेतु लिए गए बैंक ऋण पर सामान्य ब्याज का भुगतान कर सकेगा, परन्तु पिनल या कम्पाउण्ड इन्टरेस्ट या आवंटियों को ब्याज या मुआवजे का भुगतान नहीं कर सकेगा।
  5. बैंक द्वारा सेपरेट एकाउंट से विड्राल की अनुमति तीन प्रमाण-पत्रों, क्रमश: चार्टर्ड एकाउण्टेन्ट, इंजीनियर तथा आर्किटेक्ट के प्रमाण-पत्र ही अनुमन्य किया जाएगा, परन्तु अनुमन्य विड्राल परियोजना में हो चुके निर्माण कार्यों की कुल लागत से अधिक नहीं होगा।
  6. सेपरेट एकाउण्ट से विड्राल हेतु चेक, डेबिट कार्ड, क्रडिट कार्ड, नेट बैंकिंग या डिमाण्ड ड्राफ्ट तथा बैंक गारंटी जैसे माध्यम वर्जित हैं।

कड़ाई से हो नियमों का अनुपालन-संजय भूसरेड्डी

इस अवसर पर संजय भूसरेड्डी अध्यक्ष उप्र रेरा ने बताया कि प्रोमोटर द्वारा उ.प्र. रेरा के वेब पोर्टल पर परियोजना के तीनों खातों की उदघोषण तथा इन खातों का नियमों के अनुसार संचालन, विशेष रूप से परियोजना के सेपरेट एकाउंट में धनराशि जमा करने तथा खर्च करने सम्बन्धित निर्देशों का कड़ाई से अनुपालन, परियोजनाओं को समय से पूर्ण करने में सहायक होगा और रेरा इन एकाउण्ट्स के आपरेशन तथा मैनेजमेन्ट की कड़ी निगरानी द्वारा यह सुनिश्चित करेगा कि प्रोमोटर द्वारा अपने वित्तीय मामलों में पूरी पारदर्शिता रखी जाए और प्रोमोटर की जवाब देही सुनिश्चित की जा सके।

बैंक एकाउंट्स से सम्बन्धित निर्देशों की अवहेलना की दशा में सम्बन्धित प्रोमोटर्स पर भारी दंड आरोपित किया जाएगा। उन्होंने आगे कहा कि धारा-8 के अन्तर्गत पुनर्वासित की जा रही परियोजना के लिए उ.प्र. रेरा और भी सख्त नियम अपनाएगा। ऐसी परियोजनाओं के लिए प्रोमोटर को नया सेपरेट एकाउण्ट खोलना होगा और जिसमें आवंटियों से एकत्रित 100 प्रतिशत जमा करनी होगी और उन्हे भविष्य में भुगतान के लिए केवल नए सेपरेट एकाउण्ट के विषय में अवगत कराना होगा।

Also Read : राजस्थान को लेकर कांग्रेस की समीक्षा बैठक, लोकसभा चुनाव की तैयारियों में जुटने का…

Get real time updates directly on you device, subscribe now.